Home Histroy Mission Registration Form Nakoda Tirth Prog. Mohankheda Tirth Prog. Photo Gallery Directory Bangalore Prog. Contact
 
Our Mission
 
एक समय था जब लोगो की आवष्यकताएॅ बहुत ही सीमित थी संचार एवं आवागमन की सुविधा भी सीमित थी तथा व्यापार एवं उधोग भी स्थानीय स्तर पर ही होते थे इसके कारण हर परिवार और गौत्र के लोग एक दुसरे के अति निकट थे अर्थात भोगोलिक दुरियां बिल्कुल नहीं थी पारस्परिक परिचय की तो कोई समस्या ही नही थी धीरे धीरे जैसे जैसे पारावारिक आवष्यकताएँ बढती गई संचार एवं आवागमन के साधन बढते गये वैसे वैसे लोग व्यापार उधोग की तलाष मे घर गांव छोड कर बाहर निकलते गये और पुरे देष मे अलग अलग जाकर सपरिवार बसते गये कालान्तर में पारिवारिक और सामाजिक दुरियां बढती गयी सम्पर्क के अभाव में आपसी व्यवहार सीमित होते गये और पारिवारिक परिचय सीमित होते गये कौन कहॉ है क्या करता है किसी को भी इसकी पूर्ण जानकारी नही रही सभी अपने अपने सिमित दायरे मे सिमट के रह गये
 
 
       
 
Copyrights © Mandot Bhaipa, 2011 Web Solution by : Mayank Infotech